Lenskart को मिली 1550 करोड़ रुपये की फंडिंग, 18000 करोड़ हुई कंपनी की वैल्यूएशन

लेंसकार्ट, लेंसकार्ट, लेंस, वनप्लस स्मार्ट आईवियर, चश्मा, प्रौद्योगिकी समाचार हिंदी में, व्यापार समाचार हिंदी में, लेंसकार्ट फंडिंग

भारत की आईवियर कंपनी लेंसकार्ट ने कई निवेशक कंपनियों की मदद से 22 करोड़ डॉलर की फंडिंग जुटाई है। निवेश करने वाली कंपनियों में टेमासेक और फाल्कन एज कैपिटल सहित कई अन्य शामिल हैं। भारतीय कंपनियों में निवेश करने वाली विदेशी कंपनियां देश में टेक्नोलॉजी स्टार्टअप्स में बढ़ती दिलचस्पी का एक और संकेत हैं।

वहीं, लेंसकार्ट की ओर से जारी एक बयान में यह भी कहा गया है कि फंडिंग करने वाली कंपनियों में बे कैपिटल और चिराटे भी शामिल हैं। वैश्विक निवेश कोष केकेआर से 95 मिलियन डॉलर जुटाने के एक महीने बाद फंडिंग आई। इसके बाद कंपनी को मिलने वाली कुल फंडिंग बढ़कर 315 मिलियन अमेरिकी डॉलर हो गई है।

इस फंडिंग के बाद लेंसकार्ट ने अपनी भविष्य की योजनाओं की जानकारी दी है और कहा है कि कंपनी इस फंडिंग से आने वाले तीन-चार साल में तेजी से विकास करेगी। कंपनी का लक्ष्य भारत में अपने पदचिह्न का विस्तार करने के साथ-साथ दक्षिण पूर्व एशिया और मध्य पूर्व में अपनी उपस्थिति स्थापित करना है। कंपनी का लक्ष्य इन संबंधित भौगोलिक क्षेत्रों में टेमासेक और फाल्कन एज कैपिटल के नेटवर्क का लाभ उठाना है। कंपनी ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि निर्दिष्ट क्षेत्रों में लेंसकार्ट के लिए 2025 तक 15 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक का बाजार अवसर होगा।

आपको बता दें कि लेंसकार्ट चश्मा, कॉन्टैक्ट लेंस और धूप का चश्मा ऑनलाइन बेचता है। कंपनी देश भर में फैले ग्राहकों को बेहतर अनुभव प्रदान करने के लिए प्रौद्योगिकी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के साथ जुटाए गए धन का उपयोग करके कंपनी को और बेहतर बनाने की योजना बना रही है।

कंपनी ने हाल ही में ‘लेंसकार्ट विजन फंड’ भी स्थापित किया है, जिसके माध्यम से वह ऐसे देश में लॉन्च किए जा रहे स्टार्टअप्स में निवेश करना चाहती है, जो आईवियर, आई-केयर और ओमनीचैनल रिटेल के लिए तालमेल बिठाएगा, ताकि आईवियर सेगमेंट का निर्माण हो सके। चारों ओर गहरा पारिस्थितिकी तंत्र

लेंसकार्ट के संस्थापक और सीईओ पीयूष बंसल ने कहा, “हम पहले से ही भारत में सबसे बड़े आईवियर खिलाड़ी हैं और सिंगापुर में तीसरे स्थान पर हैं। लेंसकार्ट ने अगले 5 वर्षों में भारत के 50 प्रतिशत लोगों को चश्मा पहनने और दक्षिण पूर्व एशिया और मध्य पूर्व में नंबर एक आईवियर प्लेटफॉर्म बनने की कल्पना की है। विशेष रूप से, वर्ष 2019 में, लेंसकार्ट ने सिंगापुर में भी विस्तार किया और दक्षिण पूर्व एशिया में अपनी शुरुआत की, जहां यह अब एक प्रमुख ऑप्टिकल स्टोर निर्माता है।

यह भी पढ़ें:

मानवाधिकारों के हनन के लिए पेगासस का इस्तेमाल किया जा रहा है, व्हाट्सएप हेड ने प्रतिबंध लगाने की मांग की

Pegasus Spyware: 10 लोगों की जासूसी में खर्च होते हैं 8.59 करोड़ रुपये, जानिए कौन खरीद सकता है और कैसे काम करता है